Blogger द्वारा संचालित.

Followers

शुक्रवार, 12 सितंबर 2014

झरीं नीम की पत्तियाँ (दोहा-गीतों पर एक काव्य)(9) जोंक (ख) प्रेत-पिशाचिनी |

(सरे चित्र 'गूगल-खोज' से साभार)
शोषणके बढ़ने लगे, भारी अत्याचार |
भारत की धरती दबी, सह कर इतने भार!!
ताक़’ में हमने रख दिया, है राष्ट्र का स्वत्व’ |
‘सम्विधान’ से अधिक हैं, रखते निजी प्रभुत्व’ ||
लम्पट, लोभी लालची, अगुआ हुये अनेक |
जला-जला सिद्धान्त’ ये, ‘रोटीलेते सेंक ||
अमन-चैनके ‘शीश’ पर, कितने किये ‘प्रहार’ !
भारत की धरती दबी, सह कर इतने भार!!१!!

अनाचार’  का  ‘हथौड़ा’, ‘हठधर्मी के ‘हाथ’ |
सदाचारका तोडते,निर्दयता’ से माथ’ ||
नीति-न्याय’ के ‘शीशपर, ठोंक रहे गुलमेख’ |
प्रजातंत्रघायल किया, और रहे हम देख !!
दया-मनुजता’-धर्म को दिया, हमीं ने है मार |
भारत की ‘धरती’ दबी, सह कर इतने ‘भार!!२!!


दहेजको रोको तथा, रोको वैरिन घूस!
इन दोनों ने प्रेम-रस’, सभी लिया है चूस ||
दोनों प्रेत-पिशाचिनी’, जैसे क्रूर-कराल !
मानवताको खा गये,चल कर कुटिल कुचाल!!
कौन बचाए अब हमें, सुन कर ‘करुण पुकार’ ?
भारत की धरती दबी, सह कर इतने ‘भार!!३!!

घूस’ के लिए चित्र परिणाम

2 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति....
    बधाई मेरी

    नई पोस्ट
    पर भी पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP