Blogger द्वारा संचालित.

Followers

मंगलवार, 1 जुलाई 2014

झरीं नीम की पत्तियाँ (दोहा-गीतों पर एक काव्य) (२)सरस्वती-वन्दना (ख)रस-याचना(vi)’शिव’-‘गंगा’ की ‘धार’

(सारे चित्र 'गूगल-खोज' से साभार !)




‘अकल्याण’ से दूर हो, हे माँ ! हर ‘रस-सार’ !

माता ! सारे ‘रस’ बनें, ‘शिव’-गंगा की ‘धार’ !!


माँ ! ‘विभाव’-‘अनुभाव’ हों, या ‘संचारी भाव’ !
या ‘स्थाई भाव’ हो, या ‘व्यभिचारी भाव’ !!
ये सारे ‘रस-अंग’ माँ, हरते रहें ‘तनाव’ !
’तट’ तक ‘नदिया-पार’ ज्यों, करती ‘अच्छी नाव’ ||
‘डुबा’ न पाये किसी को, ‘उलझन’ की ‘मंझधार’ !
माता ! सारे ‘रस’ बनें, ‘शिव’-गंगा की ‘धार’ !!१!!
‘वात्सल्य’ या ‘वीर रस’, ‘रौद्र’ या ‘वीभत्स’ |
या कि ‘भयानक रस’ तनिक, भी न कहीं हों ‘कुत्स’ !!
‘शान्त’ औ ‘गम्भीर रस’, रहें समेटे ‘ज्ञान’ !
तथा ‘भक्ति’, इन सभी से, मत उपजे ‘अभिमान’ !!
‘विकृत वासना’ से बचे, ‘रस-राजा श्रृंगार’ !!
माता ! सारे ‘रस’ बनें, ‘शिव’-गंगा की ‘धार’ !!२!!
‘उच्छृंखल’ मत ‘हास्य’ हो, करता रहे ‘विनोद’ !
                                                         ‘स्वस्थ’ ‘भावना’ को रखे, कर ‘आमोद-प्रमोद’ !!
रखे ‘संतुलन’, ‘सम दशा’, हर ‘रस’ की ‘निष्पत्ति’ !
‘असन्तुलन औ ‘विषमता’,से मत बढ़े ‘विपत्ति’ !!
‘सत्-रज-तम’ तीनों ‘गुणों’, में मत भरें ‘विकार’ !
माता ! सारे ‘रस’ बनें, ‘शिव’-गंगा की ‘धार’ !!३!!

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अकल्याण’ से दूर हो, हे माँ ! हर ‘रस-सार’ !

    माता ! सारे ‘रस’ बनें, ‘शिव’-गंगा की ‘धार’ !!
    sundar bhavyukt prastuti .badhai

    उत्तर देंहटाएं
  3. सत्-रज-तम’ तीनों ‘गुणों’, में मत भरें ‘विकार’ !
    माता ! सारे ‘रस’ बनें, ‘शिव’-गंगा की ‘धार’ !!३!!
    ...वाह...बहुत उत्कृष्ट प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बुरा मत माैनना मित्र ।
    मैं झूठी तारीफ नहीं करता हूँ।
    दोहा गीत बहुत सुन्दर रचा है आपने।
    मगर दोहों में दोष स्पष्ट झलक रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP