Blogger द्वारा संचालित.

Followers

शुक्रवार, 1 नवंबर 2013

झरीं नीम की पत्तियाँ (दोहा-गीतों पर एक काव्य) (त)दीवाली के आस पास | (शुभ कामनाओं का गुलदस्ता )

सभी मित्रों को शुभ दीपावली-'पन्च पर्व'| कुबेर इस रचना में समाज का पूजीवादी वर्ग का प्रतीक है और धन्वंतरी चिकित्सा पद्धातियों से जुड़े वर्ग का | आज दोनों एक दूसरे का पर्याय हो गये हैं |देखिये एक सार्थक प्रतीकवादी दोहा-गीत अभिधा, लक्षणा-व्यन्जना तीनों शब्द-शक्तियों में !
(सारे चित्र 'गूगल-खोज से साभार)      


 
==================
(१)धन-त्रयोदशी (धन्वन्तरि-कुबेर के प्रति)
===========================
भूखे को दें अन्न-घर, वस्त्र, करें मत देर !
धन-तेरस के पर्व पर, श्री-धनवन्त कुबेर !!
===========================
धन्वन्तरी, कुबेर हों, मत केवल ‘धन-दास’ |
रोग-निवारण के लिये, जायें सब के पास ||
धन-हीनों पर हों सदा, वैद्य-हकीम उदार |
औषधियों पर मत पड़े, ‘महँगाई’ की मार ||
‘लोभ-पिशाचों’ का करें, विनाश देर अबेर |
धन-तेरस के पर्व पर, श्री-धनवन्त कुबेर !!१!!

यम्-संयम औ नियम सब, करें संतुलित भोग |
तन-मन के सारे मिटें,  मारक-घातक रोग ||
चित में बसी बुराइयों, की न बढ़े परिमाप |
मत मन में व्यापें अधिक, घातक-पातक पाप ||
‘मानस-पत्’ पर प्रेम की, दें तस्वीर उकेर |
धन-तेरस के पर्व पर, श्री-धनवन्त कुबेर !!२!!

हर ‘इन्द्रिय’ में शुद्धता, हो, ‘मल’ रहे न शेष |
देश-वासियों को मिले, इतना ज्ञान विशेष ||
‘समाज-तन’ नीरोग हो, बढ़े और सुख-शान्ति |
‘धन ईश्वर से बड़ा है’, मत फैले यह भ्रान्ति ||
“प्रसून” पूँजीवाद में, करें न अब अन्धेर |
धन-तेरस के पर्व पर, श्री-धनवन्त कुबेर !!३!!
!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

 

सरदार बल्लभ भाई पटेल समर्पित एक रचना हेतु मेरे ब्लॉग प्रसून पर आप सादर आमंत्रित हैं | पधार कर कृतार्थ करें !     

7 टिप्‍पणियां:

  1. देवदत्तप्रसून जी !ये आधुनिक जीवन की झरबेरियां ही नहीं राजनीतिक धंधेबाज़ों की अंदर की बात आपने दोहावली के मार्फ़त कह दी है। अजीब बात है इस देश में चिकित्सा माफिया भी पैदा हो गया है जो बड़े बड़े अस्पतालों में मरीज़ के मरने के तीन दिन बाद बतलाता है -सॉरी हमने बचाने की हर पूरी कोशिश की ,बंधू प्रसून आपकी लेखनी में जादू है। टिप्पणियाँ किसी के लेखन को मापने की भौतिक इकाई नहीं हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीया-

    आप सभी को --
    दीपावली की शुभकामनायें-

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुन्दर प्रस्तुति-
      आभार आदरणीय-

      हटाएं
  3. स्वस्थ के लिए आपने विशुद्ध सटीक बात दोहे के माध्यम से कही है परन्तु स्वस्थ सेवा अब व्यवसाय बन चूका है ,वही रोगों का कारण भी है !
    नई पोस्ट हम-तुम अकेले

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिंदगी सारी खुशिया मिले
    दीपावली की शुभकामनायें
    स्वस्थ्य सफल दीर्घायु रहो

    उत्तर देंहटाएं
  5. धनवंतरी को आज के सन्दर्भ में देखने की कोशिश की है ... बहुत उत्तम रचना ...
    दीपावली के पावन पर्व की बधाई ओर शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP