Blogger द्वारा संचालित.

Followers

रविवार, 3 नवंबर 2013

झरीं नीम की पत्तियाँ (दोहा-गीतों पर एक काव्य) (त)दीवाली के आस पास | (शुभ कामनाओं का गुलदस्ता )

(३)दीपावली
=========
घोर ‘अमावस-लोक’ में, हो ‘प्रकाश’ का राज | ‘अन्धकार’ मन का मिटे, दीवाली में आज ||

==============================
‘व्यवहारों के दीप’ में, भरें ‘प्रेम का तेल’ |
‘बाती सच्ची प्रीति की’, हो आपस में मेल ||
खील-बताशों की तरह, खिले मुखुर हो प्यार |
अपना सब को ही लगे, यह सारा संसार ||
बुरी प्रथा अब जुवे की, त्यागे अखिल समाज |
‘अन्धकार’ मन का मिटे, दीवाली में आज ||१||

 
‘लक्ष्मी’ सारी नारियाँ, बच्चे सभी ‘गणेश’ |
जिस में हो शालीनता,पहनें ऐसा वेश ||
‘सरस्वती’ मन में जगे, उपजें ‘मीठे राग’ |
जलें ‘स्नेह के दीप’ पर,बुझे ‘द्वेष की आग’ ||
गिरे किसी के भाग्य पर, कहीं न ‘दुःख की गाज |
‘अन्धकार’ मन का मिटे, दीवाली में आज ||२||


घर-घर बजें वधाइयाँ, धूम, धडाका, शोर |
खुशियों की सौगात दे, सब को कल का भोर ||
हो वर्द्धन ‘गौ-वंश’ का, ‘गोवर्द्धन’ को पूज |
भाई- बहिन के भेद को, मेटे ‘भय्या-दूज’ ||
‘महँगाई’ को मारने हो बुलन्द ‘आवाज़’ |
‘अन्धकार’ मन का मिटे, दीवाली में आज ||३||

===============================

3 टिप्‍पणियां:

  1. नमस्कार !
    आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा कल सोमवार [4.11.2013]
    चर्चामंच 1419 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें |
    सादर
    सरिता भाटिया

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर रचना !
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं !
    नई पोस्ट आओ हम दीवाली मनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर दोहा गीत।
    --
    दीपावली के साथ अन्नकूट (गोवर्धन पूजा) की भी हार्दिक शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP