Blogger द्वारा संचालित.

Followers

बुधवार, 23 जुलाई 2014

झरीं नीम की पत्तियाँ (दोहा-गीतों पर एक काव्य)(5)समाज-चर्चा (ग) कैसा आज समाज !

(सरे चित्र 'गूगल-खोज' से साभार)


जहाँ सदा ही रहा है, ‘आदर्शों’का ‘राज’ |

‘प्रबुद्ध भारत’ का हुआ, कैसा आज ‘समाज’ !!

इस भारत में कभी थे, सीधे-सच्चे’ लोग |

बदले –बदले आज कल, है अजीब ‘संयोग’ ||

‘छोटी मछली’ को यहाँ, खाता ‘भारी मच्छ’ |

‘अभिमानी’ ‘सामान्य-जन’, को कहते हैं ‘तुच्छ’ ||

हमें दिखाई दे रहा, यद्यपि सुखद ‘स्वराज’ |

‘प्रबुद्ध भारत’ का हुआ, कैसा आज ‘समाज’ !!१!!


रचते यहाँ ‘दबंग’ कुछ, छुप कर ‘शासन-तन्त्र’ |

‘काँटे’ भरने को ‘चुभन’, कुछ हो गये ’स्वतंत्र’ ||

‘धन-बल’-‘जन-बल’-‘राज-बल’, की ‘मनमानी’ खूब |

‘भाषण’ सुन कर लोग सब, गए बहुत अब ऊब ||

माना है ‘गणतंत्र’ के ‘झंडे’ गाड़े आज |

‘प्रबुद्ध भारत’ का हुआ, कैसा आज ‘समाज’ !!२!!


‘अति लालच‘-‘अति क्रोध’ या, अतिशय ‘तृष्णा-भूख’ |

की ‘भट्टी’ में ‘तच’, गयी, है ‘मानवता’ सूख ||

कुछ ‘पिशाच’ दानव कई, करें ‘घिनौनी खोज’ |

‘असमय’ में कुछ ‘बिजलियाँ’, गिरती हैं हर रोज ||

 ‘प्रसून” कभी समाज पर, गिरे न इसकी ‘गाज’ |

‘प्रबुद्ध भारत’ का हुआ, कैसा आज ‘समाज’ !!३!!


5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बृहस्पतिवार (24-07-2014) को "अपना ख्याल रखना.." {चर्चामंच - 1684} पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  3. समाज ऐसा ही होगा अगर जनता जागृत ना होगी। फ्रतिकार करना होगा जनता को।

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP