Blogger द्वारा संचालित.

Followers

सोमवार, 10 फ़रवरी 2014

झरीं नीम की पत्तियाँ (दोहा-गीतों पर एक काव्य) (१)ईश्वर-वन्दना (ख)‘कलि-ज्वाल’


(सारे चित्र  'गूगल-खोज' से साभार)

==========
प्रभु ! देखो ऐसी जली, यहाँ ‘पाप की आग’ |
सभी जले ‘कलि-जवाल’ में, कहाँ सकें हम भाग ??

===================================
‘प्रयास के साबुन’ विफल’, विफल ‘युक्ति का नीर’ |

मन-आचरण विशुद्ध हों, करें कौन ‘तदवीर’ ??

‘चित्त-चदरिया’ हो गयी, मैली बढ़े विकार |

कौन ‘बरेठा-गुरु’ मिले, इसको सके निखार ??

बिना तुम्हारी कृपा के, मिटें किस तरह ‘दाग’ ?

सभी जले ‘कलि-जवाल’ में, कहाँ सकें हम भाग ??१??


‘विलासिता-शय्या’ बिछा, करके उस पर शयन |

‘श्रद्धा’ गहरी नींद में, देख रही ‘दुस्स्वप्न’ ||

‘निष्ठा’, ‘भक्ति-सुभाव’ से, गयी आजकल ऊब |

‘आस्था’ ‘मद-मदिरा’ पिये, गयी ‘नशे’ में डूब ||

भग्न ‘प्रेरणा-भेरियाँ, कसून सकेगा जाग ?

सभी जले ‘कलि-जवाल’ में, कहाँ सकें हम भाग ??२??



आतंकों-भय से हुई, सारी दुनियाँ खिन्न |

हर ‘दिल’ में भर दो ‘दया’, हो कर तनिक प्रसन्न ||

‘रौद्र’ और ‘वीभत्स’ का, हुआ आपसी मेल |

‘क्रोध’-घृणा’ का हो रहा, यहाँ ‘घिनौना खेल’ ||

“प्रसून” की हर सोच में, भरे ‘करुण अनुराग’ |

 सभी जले ‘कलि-जवाल’ में, कहाँ सकें हम भाग ??३??



6 टिप्‍पणियां:

  1. दोहे गम्भीर चिंतन से भरे है ..
    सार्थक प्रस्तुति के लिए आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (11-02-2014) को "साथी व्यस्त हैं तो क्या हुआ?" (चर्चा मंच-1520) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    बसंतपंचमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP