Blogger द्वारा संचालित.

Followers

शनिवार, 8 फ़रवरी 2014

झरीं नीम की पत्तियाँ (दोहा-गीतों पर एक काव्य) (१)ईश्वर-वन्दना (क)काल-विष

(सारे चित्र  'गूगल-खोज' से साभार)


मित्रों !आज अचानटवर्क खाली मिलाने पर आप के सामने उपस्थित  हूँ,  इस ग्रन्थ में जोड़े गये एक नये  नए सर्ग के साथ | सुधी पाठाक इसे पढ़ कर सुझाव दें !  
================

=====================देखो हे परमात्मा !, हुआ बहुत विकराल |
‘कालकूट विष’ उगलता, यह ‘कलियुग का काल’ ||
=================================
’कलह-द्वन्द’ विप्लव बने,’विनाश’ से संयुक्त ||
अच्छे लोगों में घटा, ‘भीतर का विश्वास’ |
यह ‘समाज का महानद’, हुआ घृणा-भय युक्त |
डरे और सहमे सभी, खो कर हर ‘उल्लास’ ||
देख ‘मकर’ को ज्यों डरें, ‘सारस’ और ‘मराल’ |
‘कालकूट विष’ उगलता, यह ‘कलियुग का काल’ ||१||
‘शेर’ शौर्य को खो चले, नहीं रहे ‘स्वच्छन्द’ |
‘सोने’ की ‘पॉलिश’ चढ़े, ‘पिंजड़े’ में हैं बन्द ||
बिका ‘पराक्रम’ ‘कौड़ियों’ में, है उन का आज |
चतुर धूर्त कुछ ‘भेड़ियों’, का है उन पर ‘राज’ ||
कपट-छद्म-छलप्रबल-खाल’, हाबी हुये ‘श्रृगाल’ |
‘कालकूट विष’ उगलता, यह ‘कलियुग का काल’ ||२||
‘प्रकृति प्रिया’ की ‘गोद’ में, पलते ‘मानव-पूत’ |
किन्तु उसी के लिये वे, देते ‘कष्ट’ अकूत ||
‘प्रकृति’ तुम्हारा ‘रूप’ है, उस में इतने ‘घाव’ !
कर न थका यह ‘आदमी’, होअया अजब ‘बदलाव’ ||
‘कुबेर’ का ऐसा पड़ा, है ‘लालच का जाल’ |
‘कालकूट विष’ उगलता, यह ‘कलियुग का काल’ ||३||

 


6 टिप्‍पणियां:

  1. आज के हालात की बहुत सटीक अभिव्यक्ति...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (09-02-2014) को "तुमसे प्यार है... " (चर्चा मंच-1518) पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    बसंतपंचमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. पुस्तक कब प्रकाशित हो रही है मित्र?
    --
    मेरी ओर से अग्रिम बधायी।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मित्र अभी एक मॉस बाद पुस्तक प्रषित करूँगा अभी उस में की लोगों के सुझाव लेने हैं |

      हटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP