Blogger द्वारा संचालित.

Followers

शनिवार, 28 दिसंबर 2013

नयी करवट(दोहा-गीतों पर एक काव्य)(६)ढोल की पोल (घ)अधर्म-अफ़ीम

(सारे चिर्त्र 'गूगल-खोज' से साभार)
============   
आये हैं ‘शैतान’ कुछ, बन कर ‘राम-रहीम’ |

लगे हैं ‘बैनर’ धर्म के, बाँटें ‘अधर्म-थीम’ ||

अब ‘द्रौपदियाँ’ क्या करें, कहाँ बचेगी ‘लाज’ |

जब ‘दुश्शासन’ घूमता, कहता खुद को ‘भीम’ ||



हलवाई ‘अज्ञान’ के, रचें ‘ज्ञान-मिष्ठान’ |

रच कर ‘पेड़ा’ बेचते, भीतर भरे ‘अफ़ीम’ ||



‘कड़वाहट’ हैं भर रहे, ये ‘प्रवचन के सिद्ध’ |

‘वाणी’ में ‘मिसरी’ घुली, ‘व्यवहारों में ‘नीम’ || 

‘तोते’ कुछ ‘पाखण्ड’ के, रटते ‘पाप-कुमन्त्र’ |

‘कुतर्क’ कितने कर रहे, झूठी हर ‘तरमीम’ ||



इनके ‘झाँसे’ में फँसे, भोले कई “प्रसून” |

समाज भटका ‘भ्रष्ट पथ’, पनपे ‘पाप’ असीम ||



==================================

 मेरे ब्लॉग 'प्रसून' पर, 'घनाक्षरी वाटिका' के षष्ठम् कुञ्ज(मिलन-पथ) में आप का स्वागत है |

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (31-12-13) को "वर्ष 2013 की अन्तिम चर्चा" (चर्चा मंच : अंक 1478) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    2013 को विदायी और 2014 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर रचना !
    नया वर्ष २०१४ मंगलमय हो |सुख ,शांति ,स्वास्थ्यकर हो |कल्याणकारी हो |
    नई पोस्ट नया वर्ष !
    नई पोस्ट मिशन मून

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP