Blogger द्वारा संचालित.

Followers

मंगलवार, 3 दिसंबर 2013

झरीं नीम की पत्तियाँ (दोहा-गीतों पर एक काव्य) (ढ)धरती का भार |(३)विनाश |

(सारे चित्र 'गूगल-खोज' से साभार) 
=======
सत्य-शिवोमय कल्पना, का हो गया विनाश |
‘अति जनसंख्या’ ने किया, ‘सुन्दरता’ का नाश ||
================================


मैला जल हर नदी का, मैला है हर ताल |
जल-विहार कैसे करें, सारस, बतख, मराल ||
बढ़ते वाहन उगलते, तीखी मैली गन्ध |
व्यर्थ इत्र का छिडकना, है इतनी दुर्गन्ध ||
मैली ‘धरती’ हो गयी, ‘मैला’ है ‘आकाश’ |
‘अति जनसंख्या’ ने किया, ‘सुन्दरता’ का नाश ||१||


डीज़ल औ पेट्रोल के, जलने से हर ओर |
प्राण-वायु कम हो गयी, बढ़ी ‘मलिनता’ घोर ||
‘प्रकृतिप्रिया की चल रही, घुटी घुटी सी साँस |
‘आकर्षण’ फीका पड़ा, धुँधला हुआ है हास ||
मैला सूरज-चाँद का उज्जवल-धवल प्रकाश |
‘अति जनसंख्या’ ने किया, ‘सुन्दरता’ का नाश ||२||


फैक्ट्री-वाहन कर रहे, इतना भीषण शोर |
अब ‘कर्कशता’ बाँटते, हम को ‘संध्या-भोर’ ||
“प्रसून” माँ की लोरियाँ, हैं कितनी बेजान |
‘घरघर-खटपट’ नाद से, कुण्ठित शिशु के कान ||
‘शान्ति-हिरणी’ फांसने, पड़ा ‘प्रदूषण-पाश’ |
‘अति जनसंख्या’ ने किया, ‘सुन्दरता’ का नाश ||३||

==================================
 



  


6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया...सार्थक दोहे...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया और वर्त्तमान समस्याओं के कारण दर्शाती रचना -सार्थक दोहे |
    नई पोस्ट वो दूल्हा....
    लेटेस्ट हाइगा नॉ. २

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सार्थक और समसामयिक दोहे...

    उत्तर देंहटाएं
  5. हमारी अपनी करनी ,नियोजन हीन नियोजन ,हमारे अपने पर्यावरण की हमारे हाथों हुई ह्त्या का चित्रमय दस्तावेज़ है यह दोहा गीत। पर्यावरण रुदन ,महौली रुदाली।

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP