Blogger द्वारा संचालित.

Followers

शनिवार, 7 सितंबर 2013

पौण्ड्रक (४)धर्म-जंजाल |


जब तक बहु प्रचार प्राप्त 'धर्म-दानवों' का विनाश नहीं होता और 

मुझे जीवन मिले, तब तक कभी कभी अपने भाव इस धारा में 

प्रवाहित रखूँगा ! साधारण मनुष्य के इस प्रकार के अपराध से कई 

सहस्र गुना(जितने इस के अनुयायी हैं उतना गुना) इस 'धर्म-दानव'

का दण्डनीय अपराध है !!

(सारे चित्र 'गूगल-खोज' से साभार)     

=========== 
‘पोल’ खुल गयी, हो गया, है अब ख़स्ता हाल |
‘ईश्वर’ खुद को कह रहा, था रच कर जंजाल ||
================================
पिश्ता-काजू खा हुआ, है यह ‘मोटे पेट’ |
है ‘बाबा’ के  भेस में, ‘पूँजी धारी सेठ’ ||
क्या लेना है ‘नाम’ से, कुछ भी रख लो नाम |
चलो, नाम भी रख लिया, मानो ‘झाँसाराम’ ||
मालिक ‘दसियों अरब’ का, है ‘कुबेर का लाल’ |
‘ईश्वर’ खुद को कह रहा, था रच कर जंजाल ||१||


इस ‘कूकर’ के गले में, ‘सोने की जंजीर’ |
‘माया’ में उलझा हुआ, बनता ‘सन्त-प्रवीर’ ||
लोग हमारे देश के, अब भी कुछ कंगाल |
‘खून-पसीना’ बहा कर, खाते ‘रोटी-दाल’ ||
एक तरफ़ यह ‘पौण्ड्रक’, खाता था ‘तर माल’ |
‘ईश्वर’ खुद को कह रहा, था रच कर ‘जंजाल’ ||२||


‘प्रसून” हद से गुजर कर, ‘सीमाओं’ को तोड़ |
जीत गया यह ‘दैत्य-नर’, शैतानों से होड़ ||
हर ‘पैशाचिक साधना’, का था यह ‘उस्ताद’ |
बोता ‘ज्ञान के खेत’ में, यह ‘ज़हरीली खाद’ ||
फांस रहा था ‘मछलियाँ’, ‘धर्म की बंछी’ डाल |
‘ईश्वर’ खुद को कह रहा, था रच कर जंजाल ||३||


=================================



6 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया प्रस्तुति है आदरणीय-
    आभार आपका-

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा कल सोमवार [09.09.2013]
    चर्चामंच 1363 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें
    सादर
    सरिता भाटिया

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसे बाबाओं से समाज को मुक्ति मिलनी चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सहज-स्वाभाविक जीवन से अलग जाने वाले ढोंगी होते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  5. ईश्वर खुद को कह कर कितना दिन चलाएगा अंत में ये भी कभी लटका दिया जाए न
    सुन्दर रचना ...भोले भले लोगों को जंजाल में फंसा अपना उल्लू सीधा करने वालों का बुरा से बुरा हाल करना चाहिए ही
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP