Blogger द्वारा संचालित.

Followers

मंगलवार, 27 अगस्त 2013

कृष्ण-कन्हैया (१) कन्हैया मेरे

आप सभी को 'कृष्ण-जन्माष्टमी' की हार्दिक भा-भीनी वधाई ! हे कृष्ण! भारत के धर्म पर पड़ी करारी गहरी चोट पर कोई मरहम लगाओ !! 
आज वर्तमान की 'विद्रूप परिस्थितियों' से मन खिन्न हो कर कृष्ण-प्रेम की और जा पहुँचा |वैसे भी कृष्ण-जन्माष्टमी का पर्व है आज ! सो कुछ दिन भजन प्रस्तुत हैं |
(सारे चित्र 'गूगल-खोज' से साभार )

=======================

हैं कन्हैया मेरे श्यामले श्यामले |
======================
मेरे ‘कान्हां’ ने सब को दिया प्यार यों |
और सब पर ही उन का था उपकार यों ||
औ सभी में वे ऐसे थे  घुल मिल गये-
वृज के सब लोग उन पर हुये बावले |
हैं कन्हैया मेरे श्यामले श्यामले ||१||


मार ‘दानव’ था कल्याण सब का किया |
‘पाप का बोझ’, ‘धरती’ का हल्का किया ||
बात सच है कि, भक्तों के भगवान ने-
तारा दुष्टों को, ‘मानव’ का अवतार’ ले |
हैं कन्हैया मेरे श्यामले श्यामले ||२||


तेरे ‘कर्मों के सब जाल’ कट जायेंगे |
तेरे पापों के जंजाल’ कट  जायेंगे  ||
सारे देवों से तेरी पड़ी गरज़ क्या?
देर करना न तू, उन का ही नाम ले |
हैं कन्हैया मेरे श्यामले श्यामले ||३||

तेरा जीवन जो बिगड़ा संवर जायेगा |
देख तू ‘भव का सागर’ उतर जाएगा ||
तेरी सब उलझनों को वे कर दूर दें -
‘मन ! जो दामन तू उन का अगर थाम ले |
हैं कन्हैया मेरे श्यामले श्यामले ||४||

‘प्रेम का यों तू हल्का ‘उजाला’ न कर !
‘अपने मन के पटल’ को तू ‘काला’ न कर !!
सार्थक तो तभी ‘नेह’ कान्हां से हो-
मन की आँखों को ‘श्रद्धा’ से तू आँज ले !
हैं कन्हैया मेरे श्यामले श्यामले ||५||


कोई ‘दौलत’ नहीं टिक सकी है कभी |
‘सम्पदा’ साथ क्या जा सकी है कभी ??
‘भक्ति’ औ ‘प्रेम’ का साथ ‘जन्मों’ का है-
समझ ले यह “प्रसून”, अक्ल से काम ले !
हैं कन्हैया मेरे श्यामले श्यामले ||६||



============================

9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    सभी पाठकों को चर्चा मंच परिवार की ओर से श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज बुधवार (28-08-2013) को रूपया छा-सठ में फँसा, उन-सठ से हैरान: चर्चा मंच 3051 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
    2. सच्चे हृदय से 'योगीराज कृष्ण-जन्माष्टमी' की कोटि वधाइयां !
      बहुत ही सम सामयिक बिषय पर चर्चा के लिये आमंत्रण हेतु
      धन्यवाद !!

      हटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाऎं !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सच्चे हृदय से 'योगीराज कृष्ण-जन्माष्टमी' की कोटि वधाइयां !
      बहुत ही प्रसन्नता साझे के लिये !!

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. सच्चे हृदय से 'योगीराज कृष्ण-जन्माष्टमी' की कोटि वधाइयां !
      भीं! बहुत ही प्रसन्नता साझे के लिये !!

      हटाएं
    2. सच्चे हृदय से 'योगीराज कृष्ण-जन्माष्टमी' की कोटि वधाइयां !
      बहुत ही प्रसन्नता साझे के लिये !!

      हटाएं
  4. अपनी पोस्ट पर स्वयं ही टिप्पणी कर रहें है मित्र...!
    --
    योगीराज श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ...!
    --
    यह रचना वाकई में सुन्दर है।

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP