Blogger द्वारा संचालित.

Followers

मंगलवार, 6 अगस्त 2013

मंगल-गीत (१)राम करे !


मेरे प्रिय मित्रों, हाथ में फ्रेक्चर तथा पाँव  सहित सारे दायें  धड़ में कई घातक गुम् चोटें होने के कारण  इतनी समय से आप से अलग रहा | ०१ जूँ को एक दुर्घटना से पाया यह कष्ट अभी भी  है | ०१ जूँ से ०८ जुलाई तक लगे प्लास्तर के कटने के बाड़ अब कुछ दायें हाथ की उंगलियाँ चली हैं तो आप की सेवा में  लाभान्वित हूँ |
नवारम्भ मंगल गीतों से कर रहा हूँ |कुछ समय बाद अपनी बात भी कहूंगा जो कहता आया हूँ | अब यथा -
सम्भव नियमित जुड़ा रहने का प्रयास रहेगा | शेष इश्वर की इच्छा ! आप सब का आशीर्वाद !! शुभकामनाओं 
सहित एक आधुनिक बारहमासी प्रस्तुत है | बारहमासी  की लोक-गीत- परम्परा  को कुछ नये ढंग से प्रस्तुत करने का प्रयास है |आप का उत्साहवर्द्धक आशीष मिले |
=======
राम करे सारे भारत में पनपें खुशियाँ सारी |
रहें नाचते, हँसते-गाते, हर प्रदेश नर नारी ||
=============================
रोज़गार की कमी नहीं हो, काम सभी पा जायें |
अनब्याही बेटियाँ सरलता से अपाना वर पायें ||
जिनके जनक न पैसे वाले, वे भी रहें न क्वाँरी |
राम करे सारे भारत में पनपें खुशियाँ सारी ||१||

सावन ‘प्रेमी’ जोड़े  झूलें,  निर्भय प्यार के झूले |
‘प्रिय’ आ जायें ‘प्रिया-मिलन’ को, परदेशों में भूले ||
‘अभिलाषायें’ पूरी कर लें, तपीं विरह से ‘प्यारी’ |
राम करे सारे भारत में पनपें खुशियाँ सारी ||२||

भादों में हर  ‘राधा’ पाये,  अपना  ‘कुँवर कन्हाई’ |
‘प्यास’ बुझे, ‘जल-धार मिलन की’, बरसे राम दुहाई ||
‘गल बहियों’ में ‘हर्ष’ बटोरे, हर ‘सजनी’ मतवारी |
राम करे सारे भारत में पनपें खुशियाँ सारी ||३||

क्वाँर और कातिक में हर इक वर्ष रहे ‘खुशहाली’ |
सभी मनायें विजयादशमी औ जगमग दीवाली ||
हर मन रहे उजाला उजला, कहीं न हो अँधियारी |
राम करे सारे भारत में पनपें खुशियाँ सारी ||४||

अगहन, पूस, माह की ठण्डक, ‘बसन्त’ ले कर आये |
खिला हुआ हर फूल मनोहर, महकी गन्ध लुटाये ||
फागुन में होली के रंग में तार कर दे पिचकारी |
राम करे सारे भारत में पनपें खुशियाँ सारी ||५||

‘सुगढ़ व्यवस्था जल- वितरण की’, सब की प्यास बुझाये |
चैत और वैशाख, जेठ में ‘ताप’ न कहीं सताये ||
‘मानसून के बादल’ जनते रहें, ‘समुन्दर खारी; |
राम करे सारे भारत में पनपें खुशियाँ सारी ||६||

हर अषाढ़ में ’व्यास’ लुटायें अपने ‘ज्ञान’ की गरिमा |
बनी रहे सब के अन्तर में, घटे न ‘प्रीति- मधुरिमा’ ||
मिले ‘चेतना’ उम लोगों को, जिन की मति हो मारी |
राम करे सारे भारत में पनपें खुशियाँ सारी ||७||

दूर रहें ‘अभिशाप’, दिशायें, दस हों शुभ वरदायी |
मिलें किसी को दुःख तो सुख से हो उस की भरपाई ||
हर मौसम में “प्रसून” महकें, विहँस उठे  ‘किलकारी’ |
  राम करे सारे भारत में पनपें खुशियाँ सारी ||८||
======================================



7 टिप्‍पणियां:

  1. आप ने लिखा... हमने पढ़ा... और भी पढ़ें... इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना शुकरवार यानी 09-08-2013 की http://www.nayi-purani-halchal.blogspot.com पर लिंक की जा रही है... आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस हलचल में शामिल रचनाओं पर भी अपनी टिप्पणी दें...
    और आप के अनुमोल सुझावों का स्वागत है...




    कुलदीप ठाकुर [मन का मंथन]

    उत्तर देंहटाएं
  2. आमीन ! आमीन !! आमीन !!! आपकी हर दुआ कुबूल हो.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सभी मित्रों को पुन:मुझे जोडने तथा मुझ से जुड़ने हेतु धन्यवाद ! वधाई ||यह
    मंगल-गीत भी मेरी मनोपीदा ही है |

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 08-08-2013 के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर मनोकामना भरी प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP