Blogger द्वारा संचालित.

Followers

शुक्रवार, 10 मई 2013

झरीं नीम की पत्तियाँ (दोहा-गीतों पर एक काव्य) (ठ) आधा संसार | (नारी उत्पीडन के कारण) (१) वासाना-कारा (५) पर नुची कपोती |


ग्रन्थ-क्रम में प्रकाशित इस दोहा-गीत की विषय-वस्तु के स्रोत समाचारपत्रों के समाचार, आये दिन की जन-श्रुतियाँ,किम्वदंतियां और पारस्परिक चर्चायें या यदा कडा  दृष्टिगत घटनाये और सिनेमा-धारावाहिक हैं | 'भारत-पर्यटन' से मुझे सब से सहयोग मिला | इस प्रकार की घटनाओं के चित्रण का प्राप्त करना दुरूह है |
(सारे चित्र'गूगल-खोज'से साभार)
^^^^^^^^^^^^^^^^^^^

‘जन-बल’,‘धन-बल’, ‘राज-बल’, की हो गयीं शिकार |
नारी  ’पशुता’  से  दबी,   विवश   ‘अर्द्ध  संसार’ ||



^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^
‘मुस्तंडे - गुण्डे’   कई,  कई  ‘कु – धर्म - महन्त’ |
पाखण्डों  का   है  नहीं,  जिनके   कोई   अन्त ||


निसन्तान  कुछ नारियाँ,  फँस  कर  इनके ‘जाल’ |
सम्मोहित   तन   ‘सौंपतीं’,   होतीं  ‘पूत-निहाल’ ||
ढोंगों   के   ऐसे   खुले,  ‘तन्त्र – मन्त्र - बाज़ार’ |
नारी  ’पशुता’ से  दबी,  विवश   ‘अर्द्ध  संसार’ ||१||



‘झूठे वादों’  में  फँसीं,  कुछ  ‘धनिकों  के  जाल’ |
भोली   कई   किशोरियाँ,   खोतीं  ‘लाज-प्रवाल’  ||
कहते  ‘बिना दहेज़’  के,  करेंगे तुम से करें विवाह |
फिर   धोखा  दे   छोडते,  पूरी   कर के  ‘चाह’ ||
निर्धन   पिता  की  बेटियाँ,   सहतीं  ‘अत्याचार’ |
नारी  ’पशुता’ से  दबी,  विवश   ‘अर्द्ध  संसार’ ||२||




कल  चौराहे  पर  लुटी,  ‘कुल-ललना’  की ‘लाज’ |
जैसे   किसी  ‘कबूतरी’,  के   ‘पर’  नोचे  ‘बाज’ ||
‘तितली’ को  ज्यों  ‘छिपकली’,  निर्दय  रखे दबोच |
या  ‘गुलाब’  की  ‘पंखुड़ी’, ‘निठुर पवन’  ले नोच ||
‘धूर्त   दरिन्दे   काम   के’,   करते  ‘अत्याचार’ |
नारी  ’पशुता’ से  दबी,  विवश   ‘अर्द्ध  संसार’ ||३||

^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^

   

  

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर सचित्र सटीक प्रस्तुति
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post'वनफूल'
    latest postअनुभूति : क्षणिकाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी रचनाए अप्रतिम है... सटीक है....यथार्थ है.... आपको नमन .....

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP