Blogger द्वारा संचालित.

Followers

बुधवार, 17 अप्रैल 2013

झरीं नीम की पत्तियाँ (दोहा-गीतों पर एक काव्य) (झ) दिगम्बरा रति (२)नग्न कचनार


'नग्नता' उस युग की मजबूरी थी, जब वस्त्रों की खोज न हो सकी थी | लज्जा आदि मानसिक गुणों का विकास नहीं हुआ था और 'पशुता' के करीब यह अवस्था थी | स्त्री के मामले में 'शक्तिवाद' ही था केवल | 'आधुनिकता' 'यौन-स्वेच्छाचार' ही तो नहीं ! घिसे पिटे आडम्बर- पाखंडों का विरोध तो करना नहीं चाहते, उलटे झूठी मिथ्या 'यौन-क्रान्ति' के नाम पर 'नग्नवाद' के पीछे 'पशु-दौड़'  की होड़ लग गयी है |

(सारे चित्र 'गूगल-खोज' से साभार ! चित्र 'विषय-वस्तु' के अनुकूल हैं)    

=============
‘परिवर्तन’  के  देखिये,  बड़े  निराले ढंग |
‘दाँव-पेच’ से कट रही, ‘मर्यादा की पतंग’ ||

 
================================
हुई  प्रदूषित  विषैली,  ‘स्वाति-नखत-जल-धार’ |
‘प्रेम का चातक’ पी  इसे, है  ‘मन का बीमार’ ||
‘संयम’ के ‘वन-मोर’ को, आने  लगी है ‘आँच’ |
‘पंख’ उठा कर ‘मोरनी, रति  की’ रही है नाच  ||
‘यौन की कामी क्रान्ति’ से, ‘बागी’ हुआ ‘अनंग’ |
‘दाँव-पेच’ से  कट रही,  ‘मर्यादा  की पतंग’ ||१||


सोई  सोई  ‘काम’  की,  रही  ‘कामना’  जाग |
जैसे ‘घन के नीर’ में,  लगी ‘तड़ित की  आग’ ||
‘वडवाग्नि की वासना’, जली, हुआ,  यह  हाल’ |
‘इच्छाओं की झील’  में,  आने  लगा  ‘उबाल’ ||
‘ललनायें’  हैं  निर्वसन,  हुये  देख  हम  दंग |
‘दाँव-पेच’ से  कट रही,  ‘मर्यादा  की पतंग’ ||२||


‘बदलावों  की  आँधियों’,  से  आया  ‘पतझार’ |
‘वस्त्रों  के पत्ते’  झरे, हुई  ‘नग्न’  ‘कचनार’ ||
‘वसन’  पहनना  तो  हुआ,  है  देखो  बेकार |
‘नज़र चुरा कर’  देखता,  है  ‘यौवन सुकुमार’ ||
उभरे  ‘यौवन-चाप’  सब,  वसन  हुये यों  तंग |
‘दाँव-पेच’ से  कट रही,  ‘मर्यादा  की पतंग’ ||३||



================================
प्रियादरणीय मित्र जन, 
कल से इस ब्लॉग में नित्य एक रचना इस संकलन में प्रबंधित तथा अप्रबन्धित एक रचना एक एक दिन छोड़ कर 'प्रसून', 'गज़ल-कुञ्ज'और 'शंख-नाद' आदि ब्लॉगों में प्रकाशित करने का प्रयास रहेगा | ये रचनाएँ सम- सामयिक होंगीं |   

8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें
    charchamanch.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर एवं भावपूर्ण रचना...

    आप की ये रचना 19-04-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल
    पर लिंक की जा रही है। सूचनार्थ।
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाना।

    मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति
    शुभकामनायें आदरणीय ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. सत्य ....बेहतरीन प्रस्तुति !!
    पधारें बेटियाँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर। बधाई!
    Please visit-
    http://voice-brijesh.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP