Blogger द्वारा संचालित.

Followers

मंगलवार, 12 मार्च 2013

झरीं नीम की पत्तियाँ (दोहा-गीतों पर एक काव्य) (क) वन्दना (२)गुरु-वन्दना





हे ईश्वर तुम ही मिलो,ले कर गुरु का रूप!
गुरु तुम्हारी ‘शक्ति’ है,’ जगमें परम अनूप !!  

!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

बिना तुम्हारे विश्व में, कौन है मेरे साथ ?

दो आशीष मुझे प्रभु, रख कर सर पर साथ !!

जिस पर गुरु का हाथ हो, होता वह निष्पाप |

उस का ‘तीनो शूल’ का, मिट जाता सन्ताप ||

ज्यों  छाता  करे, हरे ‘जेठ की धूप’ ||

गुरु तुम्हारी ‘शक्ति’ है’ जग में परम अनूप !!१||


‘चाल कुचाली’ चल चुका, हे गुरु ‘काल-कुचक्र’ |

सारे भारत पर पड़ी, दृष्टि ‘नियति’ की वक्र ||

प्रभु तुम्हीं तो राष्ट्र हो, तुम ही अखिल समाज !

इस समाज को ग्रस लिया, ‘कर्क रोग’ ने आज ||

‘कड़वा काव्य’ नीम सा, है औषधि स्वरूप |

गुरु तुम्हारी ‘शक्ति’ है’ जग में परम अनूप !!२||




यद्यपि लगती है बुरी, पीड़ा देती चोट |

पर ‘कुम्हार’ की चोट से, हरता ‘घट’ का खोट ||

चोट से हिलते जब कभी, हैं ‘वीणा’ के तार |

उपजा करती है तभी, ‘मधुर मधुर झंकार’ ||

और हाथ की चोट से, फटके ‘अन्न’ को ‘सूप’ |

गुरु तुम्हारी ‘शक्ति’ है’ जग में परम अनूप !!३||








5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (13-03-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    उत्तर देंहटाएं
  2. guru kee mahima aprampar ..बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति आभार तवलीन सिंह की रोटी बंद होने वाली है .महिलाओं के लिए एक नयी सौगात WOMAN ABOUT MAN

    उत्तर देंहटाएं

  3. सादर जन सधारण सुचना आपके सहयोग की जरुरत
    साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )

    उत्तर देंहटाएं
  4. ‘कड़वा काव्य’ नीम सा, है औषधि स्वरूप |
    गुरु तुम्हारी ‘शक्ति’ है’ जग में परम अनूप ||

    गुरु की महिमा अपरम्पार है. सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP