Blogger द्वारा संचालित.

Followers

सोमवार, 12 नवंबर 2012

दीपावली की रचनाएँ (४ )'नर्क-चतुर्दशी' -एक विचार



आज 'दीपावली की पूर्व-रात्रि' अर्थात 'छोटी दीपावली की रात' है | इस पर्व  को, 'नर्क-चतुर्दशी','रूप-चतुर्दशी',वैकुंठ-चतुर्दशी', 'हरि-हर मिलन' और -
'हनुमत-जयन्ती' आदि विभिन्न नामों से जाना जाता है| इन नामों से जुड़ी  पौराणिक कथायें प्रचिलित हैं |
            
             इसी दिन महा पुरुष भगवान श्री कृष्ण ने वासना-लोलुप, दुराचारी दैत्य नर्कासुर का वध किया था , जिसने सोलह हज़ार एक सौ कन्याओं को वन्दी बना कर रक्खा था | श्री कृष्ण ने उन कन्याओं को वन्दी-गृह से मुक्त  किया और उस दुष्ट दैत्य का वध किया | यह कथा यह नसीहत देती है कि,वासना के  'अनियंत्रित' प्रवेग से समाज को मुक्त करने का प्रयास करना चाहिये | यह 'अनियंत्रित वासना' का प्रवेग दानव प्रवृत्ति है और ,दानव-समाज' का निर्माण करती है |
          'हरि-हर मिलन' की कथा भगवान शिव और भवान विष्णु के मिलन या समन्वय को प्रदर्शित करती है | शैव और वैष्णव समुदायों का यह समन्वय, प्राचीन काल के दक्षिण, सुदूर उत्तर और मध्य भारत की एकता का प्रतीक है | 'प्रान्त-वाद' के विघटन कारियों को तो  इस पर्व से सबक लेना ही चाहिये | हनुमान जयन्ती भी शिव के एक अवतार-'हनुमान' द्वारा विष्णु-अवतार श्री राम की भक्ति इसी मन्तव्य को स्पष्ट करता है-'शैव-वैष्णव' सम्प्रदाय का संगठन |
               
            'वैकुंठ-चतुर्दशी' के रूप में यह पर्व  यह बताता है कि, सभी 'नारकीय कुकर्मों' से समाज, राष्ट्र और सम्पूर्ण विश्व को मुक्ति दिला कर,
स्वर्गिक क्रिया कलापों को प्रोत्साहन दें | 'मलिनता' , 'प्रदूषण,'  'भ्रष्टाचार',
'बेईमानी', 'जमाखोरी', , 'गरीबी'  'कलह', 'हिंसा'   और 'देश-द्रोह', के साथ 
'जाति वाद', 'क्षेत्रवाद','धर्म-विवाद' आदि सब सामाजिक बुराइयाँ वास्तव में, 'नर्क' का ही कारण हैं और ये सब 'सामाजिक-जीवन' को नर्क बना देती हैं | इन्हें मिटा कर धरती को स्वर्ग बनायें | तभी इस पर्व की सार्थकता है |
           'रूप-चतुर्दशी' का अर्थ है कि,सभी प्रकार की 'कुरूपताओं' को हम 
'सुरूपता' में बदलें | आज 'विकृत मानसिकता' के युग में तो यह पर्व बहुत महत्वपूर्ण है | सुधार इस पर्व का एक मात्र उद्देश्य होना चाहिये | 
        
         'नियम', और  'संयम' का विधिवत पालन कर के जीवन-मृत्यु के संचालक  'यम'  को प्रसन्न कर के,लोकोपयोगी बनाये रक्खें |  

******************************************************
                  

6 टिप्‍पणियां:

  1. कल 'दीवाली'आपके जीवन में खुश हाली लाये!
    और 'सकल' परिवार' साथ में, 'खुशियाँ सकल' मनाये !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुंदर !
    दीप पर्व पर सपरिवार ढेरों शुभकामनाऎं!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    दीवाली का पर्व है, सबको बाँटों प्यार।
    आतिशबाजी का नहीं, ये पावन त्यौहार।।
    लक्ष्मी और गणेश के, साथ शारदा होय।
    उनका दुनिया में कभी, बाल न बाँका होय।
    --
    ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ
    (¯*•๑۩۞۩:♥♥ :|| दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें || ♥♥ :۩۞۩๑•*¯)
    ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़िया प्रस्तुति ... दीपावली पर्व के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिजनों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. रौशनी और खुशियों के पर्व "दीपावली" की ढेरों मुबारकबाद!

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP