Blogger द्वारा संचालित.

Followers

सोमवार, 29 सितंबर 2014

झरीं नीम की पत्तियाँ (दोहा-गीतों पर एक काव्य) (12) दिगम्बरा रति (ख) नग्न कचनार

(सरे चित्र 'गूगल-खोज' से साभार)

परिवर्तन के देखिये, बड़े निराले ढंग |
दाँव-पेच से कट रही, मर्यादा की पतंग ||
हुई प्रदूषित-विषैली, स्वाति-नखत-जल-धार |
प्रेमी-चातक पी इसे, है मन का बीमार ||
संयम के वन-मोर को, आने लगती आँच |
पंख उठा कर मोरनी, रति की उठती नाच  ||
यौन की कामी-क्रान्ति से, बागी हुआ अनंग |
दाँव-पेच से  कट रहीमर्यादा  की पतंग ||1||


सोई-सोई काम की, रही कामना जाग |
जैसे घन के नीर में, लगी तड़ित की आग ||
वडवाग्नि सी वासना, जली, हुआ, यह हाल |
इच्छाओं की झील में, आने लगा उबाल ||
ललनायें हैं निर्वसन, हुये देख हम दंग |
दाँव-पेच से कट रही, मर्यादा की पतंग ||2||
बदलावों की आँधियों, से आया पतझार |
वस्त्रों के पत्ते झरे, हुई नग्न कचनार ||
वसन पहनना हो गया, है मानो बेकार |
नज़र चुरा कर देखता, है यौवन सुकुमार ||
उभरे यौवन-चाप सब, कपड़े ऐसे तंग |
दाँव-पेच से कट रही, मर्यादा की पतंग ||3||


4 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवार के - चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. विभिन्न विषयों पर अच्छी प्रस्तुति। स्वयं शून्य

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    अष्टमी-नवमी और गाऩ्धी-लालबहादुर जयन्ती की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    --
    मान्यवर,
    दिनांक 18-19 अक्टूबर को खटीमा (उत्तराखण्ड) में बाल साहित्य संस्थान द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय बाल साहित्य सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है।
    जिसमें एक सत्र बाल साहित्य लिखने वाले ब्लॉगर्स का रखा गया है।
    हिन्दी में बाल साहित्य का सृजन करने वाले इसमें प्रतिभाग करने के लिए 10 ब्लॉगर्स को आमन्त्रित करने की जिम्मेदारी मुझे सौंपी गयी है।
    कृपया मेरे ई-मेल
    roopchandrashastri@gmail.com
    पर अपने आने की स्वीकृति से अनुग्रहीत करने की कृपा करें।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
    सम्पर्क- 07417619828, 9997996437
    कृपया सहायता करें।
    बाल साहित्य के ब्लॉगरों के नाम-पते मुझे बताने में।

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP