Blogger द्वारा संचालित.

Followers

गुरुवार, 5 सितंबर 2013

पौण्ड्रक (२) विषफल |

=========
‘भारतीयता’ की मिटी, तुझसे जग में ‘साख’ !
तू निकला ‘विषफल’ जिसे, समझा ‘मीठा दाख’ !!


!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!
दुनियाँ में ज़ाहिर हुई, है ‘काली करतूत’ |
‘गहराई’ में दबे थे, पाप के तेरे सबूत ||
बड़े घिनौने थे सभी, तेरे पाप अकूत |
निगले ‘कड़वे फल’ समझ, कर ‘मीठे शहतूत’ ||
‘शुक्ल-पक्ष’ को कर दिया, है ‘अँधियारा पाख’ |
तू निकला ‘विषफल’ जिसे, समझा ‘मीठा दाख’ !!१!!


लगता था ‘गलमाल’ तू, निकला ‘विषधर नाग’ |
बाहर ‘उजला हंस’ तू, भीतर ‘’काला काग’ ||
तेरे मन में ‘काम’ की, गयी ‘कामना’ जाग |
जला के तूने ‘वासना, की अनियंत्रित आग’ ||
‘नारी के सम्मान’ को, किया जला कर ‘राख’ |
तू निकला ‘विषफल’ जिसे, समझा ‘मीठा दाख’ !!२!!


‘प्रसून” श्रद्धा-आस्था, के हो गये मलीन |
‘भक्ति के भँवरे’ देख तू, शंकाओं में लीन ||
‘कपट-तपस्वी’ कुटिल तू, तेरा थोथा ज्ञान |
तन्त्र-मंत्र सब खोखले, बचा दम्भ- अभिमान ||
अपने ‘कुकर्म’ का ‘कुफल’, अब तू खुद ही चाख !
तू निकला ‘विषफल’ जिसे, समझा ‘मीठा दाख’ !!३!!
दाख=अंगूर |


===================================


3 टिप्‍पणियां:

  1. दूसरी कड़ी भी बढ़िया -
    आभार आदरणीय-
    गुरुजनों को प्रणाम-

    उत्तर देंहटाएं
  2. जितनी भी कड़ी भर्त्सना की जाये कम होगी
    सच्चाई ब्यान करती रचना

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP