Blogger द्वारा संचालित.

Followers

मंगलवार, 19 मार्च 2013

झरीं नीम की पत्तियाँ (दोहा-गीतों पर एक काव्य (घ) दहशत (१)खूनी पंजे पैने दाँत |



 $$$$$$$$


$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$
जैसे   ‘पंछी’  कोई   पकड़े   आ कर  बाज |
‘मज़लूमों’ पर पकड़ है, ‘ज़ुल्म’ की ऐसी आज ||
$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$
‘स्यार’, ‘भेड़िया’, ‘लोमड़ी’, का लाख कर आक्रोश |
डरे  डरे   सहमे   हुये,  हैं   भोले   ‘खरगोश’ ||
‘अपराधों  के  गिद्ध’  हैं,   उड़ते   चारों   ओर |
‘समाज-वन’ में किस  तरह,  नाचें ‘प्रेम के मोर’ ||
चाह   रहीँ  ‘खूंरेजियाँ’,  करना   अपना राज |
‘मज़लूमों’ पर पकड़ है, ‘ज़ुल्म’ की ऐसी आज ||१||




‘आचरणों की  ‘मछलियों’ का अति बुरा है हाल |
पड़ा हुआ उन पर निठुर, ‘वित्त-वाद’ का जाल ||
‘जमाखोरियों’   के  हुये,  ‘अजगर  जैसे  पेट’ |
‘हकों’  के  कितने ‘मेमने’, चढ़े हैं इन की भेंट ||
आज तलक भी ‘वक्त’ का बदला नहीं मिजाज़ |
‘मज़लूमों’ पर पकड़ है, ‘ज़ुल्म’ की ऐसी आज ||२||



रोको  ‘जलती  ईर्ष्या’,  उगल  रही  है  ‘ताप’ !
मत उगलो अब ‘द्वेष’ का, ‘आँच भरा सन्ताप’ !!
‘दावानल’ सी जल रही, ‘घृणा की भीषण आग’ |
करके  यत्न  संवारिये,  ‘सुमनों  के अनुराग’ !!
‘अमन’ चला मुहँ मोड़ कर, दो उस को आवाज़ |
‘मज़लूमों’ पर पकड़ है, ‘ज़ुल्म’ की ऐसी आज ||३||





$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$$

  
 


 




3 टिप्‍पणियां:

  1. प्रभावी प्रस्तुति-
    आभार -

    उत्तर देंहटाएं
  2. .बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति .एक एक बात सही कही है आपने . आभार हाय रे .!..मोदी का दिमाग ................... .महिलाओं के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सार्थक प्रस्तुति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP