Blogger द्वारा संचालित.

Followers

बुधवार, 26 दिसंबर 2012

मेरी पुस्तक 'ठहरो मेरी बात सुनो' में एक ताज़ा सामयिक परवर्धन- 'माता की पुकार' (व्याजोक्ति)




भारत की गरिमा कई बार भंग हो चुकी है | पर अब तो हद हो गयी है | इतना घिनौना काण्ड, 'पशुता' 

का 'मानवता' पर आक्रमण ! सीधे तरीके से फैसला होने की वजाय,उलझता जा रहा है 'न्याय' का 

फरिश्ता !! भारत माता आज 'हैप्पी क्रिमस' कहे तो कैसे कहे !!! (सारे चित्र 'गूगल-खोज' से साभार)   

'हैप्पी क्रिसमस' मैं कह देती, पर मेरा 'दिल' घायल है | 

ओ मेरे सपूत !सुन लों तुम, माता 'रहम' के क़ाबिल है ||

!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!


कहीं 'लड़ाई भाषाओं की', कुछ 'धरती' के लिये लड़े |

कई लड़े हैं, 'धन-दौलत' को, कुछ 'कुर्सी' के लिये लड़े ||

कोई लड़ाई हो मत भूलो, लड़ाने वाला 'जाहिल' है || 

'हैप्पी क्रिसमस' मैं कह देती, पर मेरा 'दिल' घायल है | 

ओ मेरे सपूत !सुन लों तुम, माता 'रहम' के क़ाबिल है ||१|| 



कैसे 'मेरे पूत' हो गये, 'सुन्दर-तन' के भूखे हैं | 

'हविश-धूप' से 'करुणा' सूखी,'नयन के छागल' सूखे हैं ||

इनके 'व्यवहारों' में 'भीषण पशुता वाले जंगल' हैं  ||

'हैप्पी क्रिसमस' मैं कह देती, पर मेरा 'दिल' घायल है | 

ओ मेरे सपूत !सुन लों तुम, माता 'रहम' के क़ाबिल है ||२||



मुझको चिन्ता, आयी कैसे 'अखलाकों' में यह 'खामी' !  

"प्रसून" किससे करें शिकायत, होगी कितनी बदनामी !!

उफ़,लगता है, 'भाग्य-गगन' में उठा 'प्रलय का बादल' है ||

'हैप्पी क्रिसमस' मैं कह देती, पर मेरा 'दिल' घायल है | 

ओ मेरे सपूत !सुन लों तुम, माता 'रहम' के क़ाबिल है ||३||



!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

  

3 टिप्‍पणियां:

  1. शानदार लेखन,
    जारी रहिये,
    बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार (28-12-2012) के चर्चा मंच-११०७ (आओ नूतन वर्ष मनायें) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार (28-12-2012) के चर्चा मंच-११०७ (आओ नूतन वर्ष मनायें) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    उत्तर देंहटाएं

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP