Blogger द्वारा संचालित.

Followers

मंगलवार, 4 दिसंबर 2012

मुकुर(यथार्थवादी त्रिगुणात्मक मुक्तक काव्य)(ज)मन का रेगिस्तान |(एक भीषण परिवर्तन) (१)हर कोई ‘धन’ पर दीवाना हुआ है |




||||||||||||||||||||||||||||||||||||


\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\
व्यवहार सब का मन माना हुआ है |
हर कोई ‘धन’ पर दीवाना हुआ है ||
|||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||
‘मरु-भूमि’ जैसे लोग हुये ‘रूखे’ |
‘ग्रीष्म-सर’ जैसे ‘संयोग’ हुये रूखे ||
‘प्रेम के सारे प्रयोग हुये  रूखे |
आज कल ‘मन’ से ‘मन’के ‘सम्बन्ध’ को | और ‘प्यार’ के ‘मधुर मधुर अनुबन्ध’ को ||
बहुत ही कठिन अब निभाना हुआ है |
‘अपना’ भी इतना ‘बेगाना’ हुआ है ||
व्यवहार सब का मन माना हुआ है |
हर कोई ‘धन’ पर दीवाना हुआ है ||१||

‘कलिकायें’ तोड़ने के आदी हुये |
‘बाग’ के लिये ये ‘अवसादी’ हुये ||
‘माली’ आज कितने विवादी हुये || 
बेच दिया ‘सुमनों’ के ‘मकरन्द’ को |
मोल लिया ‘काँटों’ के ‘दुःख-द्वन्द’ को ||
‘मलिन’ आज ‘मौसम’, ‘सुहाना’ हुआ है |
‘पतझर’ का, ‘मधुवन’, ‘निशाना’ हुआ है ||
व्यवहार सब का मन माना हुआ है |
हर कोई ‘धन’ पर दीवाना हुआ है ||२||

‘हीर’ और ‘राँझे’, ‘दिलदार’ नहीं हैं  |
‘शीरी-फरहादों’ में, ‘प्यार’ नहीं है ||  
किन ‘दिलों’ में ‘वासना-ज्वार’ नहीं है ||
‘तानों’ से भरे ‘मधुर आनन्द’ को |
‘प्रेम-गीतों’ वाले किसी ‘छन्द’ को ||
व्यर्थ आज कितना माना हुआ है |
‘अर्थ-हीन’ ‘मीठा तराना’ हुआ है ||
व्यवहार सब का मन माना हुआ है |
हर कोई ‘धन’ पर दीवाना हुआ है ||३||

‘कोकिल’ के ‘मीठे बोल’ हुये ‘फीके’ |
‘तितली’ के कितने ‘घिनौने सलीके’ ||
‘भ्रमर’ के ‘भाव’ आज नहीं ‘नीके’ ||
‘ज़िंदगी’ के चुभ रहे ‘हर द्वन्द’ को |
‘गले’ में ‘दुखड़ों’ के पड़े ‘फन्द’ को ||
मानों असम्भव कटाना हुआ है |
‘प्राणों’ को मुश्किल बचाना हुआ है ||
व्यवहार सब का मन माना हुआ है |
हर कोई ‘धन’ पर दीवाना हुआ है ||४||

इन की ‘व्यापार की नीति’ देखिये |
‘एश-भक्ति’ की इन की ‘रीति’ देखिये ||
इन की ‘समाज-सेवी प्रीति’ देखिये ||
‘प्रदूषित’ है कर दिया, ‘हर प्रबन्ध’ को |
तोड़ दिया ‘घावों’ के ‘हर बंध’ को ||
‘घाव’ बहुत ‘गहरा-पुराना’ हुआ है |
‘कहर’ सा इस को दुखाना हुआ है ||
व्यवहार सब का मन माना हुआ है |
हर कोई ‘धन’ पर दीवाना हुआ है ||५||
|||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||||

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

About This Blog

साहित्य समाज का दर्पण है |ईमानदारी से देखें तो पता चलेगा कि, सब कुछ मीठा ही तो नहीं , कडवी झाडियाँ उगती चली जा रही हैं,वह भी नीम सी लाभकारी नहीं , अपितु जहरीली | कुछ मीठे स्वाद की विषैली ओषधियाँ भी उग चली हैं | इन पर ईमानदारी से दृष्टि-पात करें |तुष्टीकरण के फेर में आलोचना को कहीं हम दफ़न तो नहीं कर दे रहे हैं !!

मेरे सभी ब्लोग्ज-

प्रसून

साहित्य प्रसून

गज़ल कुञ्ज

ज्वालामुखी

जलजला


  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP